Vani Prakashan Nirbandh : Mahasamar ? 8 (Hindi) by Narendra Kohli Edition 2015

449.00

Vani Prakashan Nirbandh : Mahasamar – 8 (Hindi) by Narendra Kohli Edition 2015

Out of stock

SKU: OTHER399 Category:

‘महासागर’ हमारा काव्य भी है, इतिहास भी और अध्यात्म भी। हमारे प्राचीन ग्रंथ शाश्वत सत्य की चर्चा करते हैं। वे किसी कालखंड के सीमित सत्य में आबद्ध नहीं हैं, जैसा कि यूरोपीय अथवा यूरोपीयकृत मस्तिष्क अपने अज्ञान अथवा बाहरी प्रभाव में मान बैठा है। नरेंन्द्र कोहली ने न महाभारत को नए संदर्भो में लिखा है, न उसमें संशोधन करने का कोई दावा है। न वे पाठको को महाभारत समझाने के लिए, उसकी व्याख्या कर रहे हैं। नरेन्द्र कोहली यह नहीं मानते कि महाकाल की यात्रा, खंडों में विभाजित है, इसलिए जो घटनाए घटित हो चुकी हैं, उनमें अब हमारा कोई संबन्ध नहीं है, उनकी मान्यता है कि न तो प्रकृति के नियम बदले हैं, न मनुष्य का मनोविज्ञान। मनुष्य की अखंड कालयात्रा को इतिहास खंड़ों में बाँटे तो बाँटे, साहित्य उन्हें विभाजित नहीं करता, यद्यपि ऊपरी आवरण सदा ही बदलते रहते हैं।

Weight 1.2 kg
Authors

Publisher

ISBN

Binding

Edition

Language

Reviews

There are no reviews yet.

Be the first to review “Vani Prakashan Nirbandh : Mahasamar ? 8 (Hindi) by Narendra Kohli Edition 2015”

Your email address will not be published.